अन्य
    Tuesday, June 18, 2024
    अन्य

      अब एक क्लिक में मिल जाएंगे वर्ष 1975 से 2004 तक के CBSE मार्कशीट-सर्टिफिकेट

      इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क।  केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से वर्ष 2004 से पहले दसवीं व बारहवीं की परीक्षा दे चुके पूर्व छात्रों को अब उनकी मार्क शीट, माइग्रैशन सर्टिफिकेट व पास सर्टिफिकेट के लिए बोर्ड के चक्कर नहीं लगाने होंगे। ऐसे लोगों को यह सब अब एक क्लिक पर ही घर बैठे प्राप्त हो जाएगा।

      खबरों के मुताबिक सीबीएसई जल्द ही वर्ष 1975 से 2004 तक के परीक्षा संबंधी रिकॉर्ड को डिजिटल करने जा रहा है। अभी तक वर्ष 2004 से 2021 तक का दसवीं-बारहवीं का रिजल्ट डाटा ऑनलाइन उपलब्ध है।

      सीबीएसई से परीक्षा पास कर चुके पूर्व छात्रों के साथ अक्सर ऐसा होता है कि उन्हें नौकरी या अन्य किसी कार्य के लिए दस्तावेज की जरूरत होती है, लेकिन खो जाने के कारण वह दस्तावेज उपलब्ध नहीं करा पाते हैं।

      ऐसे में उन्हें बोर्ड से डुप्लीकेट दस्तावेज निकलवानै पड़ते हैं। डुप्लीकेट दस्तावैज प्राप्त करने में समय अधिक लगता है।

      ऐसे मैं बोर्ड ने छात्रों के हित में 1975 से 2004 तक के परीक्षा संबंधी दस्तावेजों को ऑनलाइन उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। यह सब डिजिलॉकर में उपलब्ध करा दिए जाएंगे।

      साथ ही परीक्षा परिणाम संबंधी दस्तावेज सुरक्षित रहें, इसके लिए बोर्ड की ओर से एकेडेमिक ब्लॉक चेन तकनीक का प्रयोग किया जाएगा।

      सीबीएसई के आईटी व प्रोजेक्ट निदेशक अंतरिक्ष जौहरी के मुताबिक 2004 से 2021 तक का रिजल्ट का डाटा ऑनलाइन उपलब्ध का दिया गया है। अब 2004 से पहले के डेटा को ऑनलाइन करने की प्रक्रिया को शुरू कर दिया गया है।

      उन्होंने बताया कि जल्द से जल्द यह सुविधा उपलब्ध करा दी जाएगी। वर्ष 1975 के रिकॉर्ड डिजिलॉकर में उपलब्ध करा दिए जाएंगे।

      बोर्ड ने 2004 में डिजिटल अकादमिक रिपोजिटरी (परिणाम मंजूषा) तैयार की थी। जिसमें दसवीं से बारहवीं तक के रिजल्ट डिजिटल रूप में हैं।

      अब 1975 के बाद दस्तावेज को डिजिटल करने का कार्य प्रगति पर है और एक वर्ष के समय में इसे रिपोजिटरी में जोड़ दिया जाएगा।

      CBSE 10वीं और 12वीं का बोर्ड एग्जाम पैटर्न में हुआ बड़ा बदलाव, जानें…

      अब इन आधा दर्जन कंपनियों को बेचने की तैयारी में जुटी मोदी सरकार !

      Ex. PM मनमोहन सिंह की तबियत बिगड़ी, एम्स में भर्ती, ईलाज के लिए मोडिकल बोर्ड गठित

      आरसीपी से लेकर मंडल तक, अब नीतीश के अपने ही करने लगे अवहेलना

      बड़ी अच्छी खबरः 2 साल से उपर के बच्चों को कोरोना टीका ‘कोवैक्सीन’ लगाने की  मंजूरी

      संबंधित खबरें