झारखंड में अभी बिहार-बंगाल के बसों की एंट्री नहीं

बिहार व बंगाल में बड़े पैमाने पर बसों से झारखंड आने के लिए टिकट की बुकिंग शुरू हो गई है, जिस पर झारखंड सरकार ने आपत्ति दर्ज कराई है। सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि झारखंड में बसों के संचालन की अनुमति नहीं मिलेगी

रांची दर्पण डेस्क।  झारखंड में अंतरराज्यीय परिवहन की अनुमति अभी नहीं दी गई है। यहां तक कि प्राइवेट वाहनों को भी झारखंड आने के लिए ई-पास आवश्यक होगा। दूसरी ओर, पहले से ही झारखंड के वाहनों को एक जिले से दूसरे जिले में जाने के लिए भी ई-पास की आवश्यकता होगी।

बिहार में इंटर स्टेट बसों के परिचालन की अनुमति के साथ ही झारखंड आने के लिए सैकड़ों की संख्या में बसों की बुकिंग शुरू हो गई। बंगाल और बिहार से बसें पहुंच भी गईं।

रांची में ऐसी पांच बसों को जब्त भी किया गया है।

परिवहन सचिव के. रवि कुमार ने बिहार सरकार के परिवहन सचिव को पत्र लिखकर बताया कि झारखंड में बिहार की बसें नहीं चल पाएंगी। उन्हें बता दिया गया है कि बसों को झारखंड नहीं आने दिया जाएगा। अगर किसी बस को झारखंड आना है तो उसे पास बनवाना होगा। नियमों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई का निर्देश दिया गया है।

परिवहन विभाग के संयुक्त सचिव रविशंकर विद्यार्थी ने बताया कि राज्य में अंतर जिला परिवहन की अनुमति भी नहीं मिली है।

ऐसे में प्राइवेट वाहनों को एक जिले से दूसरे जिले में जाने के लिए अनुमति जरूरी होगी। ई-पास के साथ ही लोग जिलों की सीमा पार कर सकेंगे।

जिला परिवहन पदाधिकारियों को वैसे वाहनों की जांच करने को कहा है, जो बिना अनुमति के दूसरे जिले में जा रहे हैं। अनलॉक-1 के शुरू होते ही कुछ इलाकों से सूचना आ रही थी कि वाहनों के परिवहन को पूरी तरह छूट मिल गई है। ऐसा सिर्फ टैक्सियों के साथ है, जिस पर बाहर से पहुंचनेवाले यात्री अपने घर तक जा सकते हैं।

परिवहन विभाग की विशेष टीम ने रांची के खादगढ़ा में छापेमारी कर दूसरे राज्यों की पांच बसों को जब्त किया है। पांच बसों के पास न तो ई-पास था और न ही वाहन के कागजात पूरे थे। एक वाहन के पास ई-पास था, लेकिन वह भी वन-वे का था।

जबकि अन्य बसों के कागजात में टैक्स और परमिट नहीं थे। इनमें दो बसें बिहार के हैं और तीन पश्चिम बंगाल की हैं।

एमवीआइ मो. शाहनवाज और जिला परिवहन पदाधिकारी संजीव ने कहा कि प्रतिबंध के बावजूद ये बसें दूसरे राज्य से झारखंड में प्रवेश कर गईं। बसों के पास न जरूरी दस्तावेज थे और न ही परमिट।

Comments

संबंधित खबरें

Expert Media News_Youtube
Video thumbnail
देखिए लालू-राबड़ी पुत्र तेजप्रताप यादव की लाईव रिपोर्टिंग- 'भागा रे भागा, रिपोर्टर दुम दबाकर भागा !'
06:51
Video thumbnail
गुजरात में चरखा से सूत काट रहे हैं बिहार के मंत्री शहनवाज हुसैन
02:13
Video thumbnail
एक छोटा बच्चा बता रहा है बड़ी मछली पकड़ने सबसे आसान झारखंडी तारीका...
02:21
Video thumbnail
शराबबंदी को लेकर अब इतने गुस्से में क्यों हैं बिहार के सीएम नीतीश कुमार ?
01:30
Video thumbnail
अब महंगाई के सबाल पर बाबा रामदेव को यूं मिर्ची लगती है....!
00:55
Video thumbnail
यूं बेघर हुए भाजपा के हनुमान, सड़क पर मोदी-पासवान..
00:30
Video thumbnail
देखिए पटना जिले का ऐय्याश सरकारी बाबू...शराब,शबाब और...
02:52
Video thumbnail
बिहार बोर्ड का गजब खेल: हैलो, हैलो बोर्ड परीक्षा की कापी में ऐसे बढ़ा लो नंबर!
01:54
Video thumbnail
नालंदाः भीड़ का हंगामा, दारोगा को पीटा, थानेदार का कॉलर पकड़ा, खदेड़कर पीटा
01:57
Video thumbnail
राँचीः ओरमाँझी ब्लॉक चौक में बेमतलब फ्लाई ओवर ब्रिज बनाने की आशंका से स्थानीय लोगों में भारी आक्रोश
07:16