हाई कोर्ट के फैसले का स्वागत, लेकिन छठी जेपीएससी रिजल्ट नहीं, हो अधिसूचना रद्दः देवेंद्र नाथ महतो

रांची दर्पण डेस्क। झारखंडी छात्रहित में विवादित छठी जेपीएससी को रद्द कराने को लेकर पूर्ववर्ती रघुवर सरकार से लेकर वर्तमान हेमंत सरकार के खिलाफ सक्रिय रूप से आंदोलन  करने वाले सक्रिय आंदोलनकारी छात्र नेता देवेंद्र नाथ महतो ने झारखंड हाईकोर्ट द्वारा छठी जेपीएससी रिजल्ट रद्द करने का निर्णय को स्वागत करते हुए निर्णय को छात्रहित में झारखंड हित में बताया है।

इस फैसले से छात्रों में खुशी का लहर है। आयोग ने परिवपुत्रों को शामिल करने के उद्देश्य से मेरिट लिस्ट बानाने में गड़बड़ी करते हुए हिंदी अंग्रेजी क्वालीफाइंग पेपर के अंक को भी मेरिट लिस्ट जोड़ना तथा सभी विषयों पर उत्तीर्ण नहीं करने पर उत्तीर्ण घोषित कर मेरिट लिस्ट में शामिल करने का बात को गलत ठहराते हुए हाईकोर्ट ने छठी जेपीएससी रिजल्ट रद्द कर दिया।

देवेंद्र नाथ महतो ने हेमंत सरकार से मांग करते हुए कहा कि छठी जेपीएससी शुरू से विवादित में रहा है। इसका मेरिट रिजल्ट रद्द होने के बजाय अधिसूचना को ही रद्द होना चाहिए।

अभी तो बस फाइनल मेरिट लिस्ट में हुई गड़बड़ी के आधार पर रिजल्ट रद्द हुआ इसके अलावा पिटी रिजल्ट में पंद्रह गुना कोटिवार में आरक्षण का पालन नहीं किया गया है।

अनुसूचित जाति, जनजाति और पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों को अनारक्षित अभ्यर्थी से ज्यादा अंक लाने पर भी अनारक्षित श्रेणी में रिज़ल्ट नहीं दिया गया। तीन तीन बार पीटी रिजल्ट जारी किया गया, जो त्रुटिपूर्ण है।

इसके अलावा भ्रष्टाचार का भी मामला है। आयोग ने पांच हजार प्रश्न पत्र को दो वर्षो तक अपने पास रखकर उसी पेपर का 34 बार रीप्रिंट कराया तथा बिना सील प्रश्न पत्र से परीक्षा लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

एक नज़र