भगवान बिरसा जैविक उद्यान में मातम, नहीं रहा ‘शिवा’, 13 साल की उम्र में मौत, था 4 दिन से बीमार

ओरमांझी (राँची दर्पण)।  झारखंड के पशु प्रेमियों के लिए एक बुरी खबर सामने आयी है। राजधानी के ओरमांझी स्थित बिरसा जैविक उद्यान का बाघ शिवा का निधन हो गया है।

शिवा की उम्र 13 वर्ष था। वह पिछले 4 दिनों से बीमार चल रहा था। जू के डॉक्टर ओम प्रकाश साहू ने शिवा की मौत की पुष्टि की है।

उन्होंने बताया कि शिवा का एंटीजन टेस्ट निगेटिव आया है। इसके बाद RTPCR टेस्ट के लिए सैंपल भेजा गया है। बाघ बुखार और संक्रमण से पीड़ित था। उसके कोविड जांच के लिए नमूने आईवीआरआई (IVRI) बरेली भेजा जा रहा है।

बता दें कि बुधवार शाम को दवा दी गयी थी, तो उसका बुखार उतर गया था। लेकिन गुरूवार सुबह से उसने खाना-पीना छोड़ दिया था।

उद्यान के डॉक्टर ओम प्रकाश साहू की देखरेख में बाघ का इलाज चल रहा था। भेंटनरी कॉलेज कांके के डॉक्टर को बुलाया गया था, जिन्होंने बाघ के खून का सैंपल लिया था। जिन के बाद लैबोरेट्री में उसका जांच किया गया। जहां शिवा के किडनी व फेफड़े में इंफेक्शन पाया गया था।

वेटरनरी कॉलेज कांके के डॉक्टर प्रवीण कुमार टाटा जू के डॉ माणिक पालित व डॉक्टर ओम प्रकाश साहू की देखरेख में 5 बोतल एनर्जी सलाइन चढ़ाया गया था।

भगवान बिरसा जैविक उद्यान के निर्देशक यतिन्द्र कुमार दास ने बताया कि वेटरनरी कॉलेज कांके के डॉक्टर बाघ का पोस्टमार्टम करेंगे। जिसके उपरांत उसे उद्यान के शव गृह में जलाया जायेगा। बाघ शिवा को 2011 में बिरसा जैविक उद्यान लाया गया था। उस समय उसकी उम्र 3 साल की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

एक नज़र