कोरोना संक्रमण की चपेट में रांची के प्रायः अस्पताल, अब मेदांता की 22 नर्सें पॉजेटिव!

0

“रांची के लगभग सभी प्राइवेट अस्पताल और नर्सिंग होम के स्टाफ में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। रांची के मेदांता, मेडिका, आलम नर्सिंग होम, मातृ छाया नर्सिंग होम, देवकमल हॉस्पिटल, आर्किड सहित कई अन्य अस्पतालों से भी स्टाफ के संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है।  इसके अलावा रिम्स और विभिन्न जिलों के सदर अस्पतालों के कर्मी भी पॉजिटिव आ चुके हैं..

रांची दर्पण डेस्क। राजधानी रांची के ओरमांझी ईलाके में स्थित मेदांता अस्पताल में संक्रमण का खतरा बहुत अधिक बढ़ गया है। मेदांता अस्पताल में डॉक्टर, ग्राउंड स्टाफ, रिसेप्शनिस्ट और 22 से अधिक नर्सें कोरोना पॉजिटिव हो चुकी हैं। इसके बाद मेदांता के अधिकतर स्टाफ पर संक्रमण का खतरा मंडराने लगा है।

इतनी अधिक मात्रा में स्टाफ के संक्रमित होने और संक्रमण के खतरे के बाद भी मेदांता अस्तपाल लगातार बाहरी मरीजों का इलाज कर रहा है। मेदांता अस्पताल में भी लगातार मरीज संक्रमित मिल रहे हैं।

कहीं न कहीं मरीजों से अस्पताल के स्टाफ में संक्रमण फैल रहा है या फिर संक्रमित अस्पताल कर्मियों से मरीजों में संक्रमण फैल रहा है। एक ही अस्पताल में इतने अधिक संख्या में स्टाफ के संक्रमित होने से बाहरी मरीजों पर भी संक्रमण का खतरा है।

बता दें कि रिम्स सहित कई सरकारी विभागों में मरीजों के संक्रमित मिलने के बाद उन्हें आइसीएमआर गाइडलाइन के हिसाब से कम से कम तीन दिन के लिए सील किया जा रहा है या फिर मिनी कंटेनमेंट जोन बनाया जा रहा है।

मेदांता अस्पताल में संक्रमित मिलीं नर्सें कितने मरीजों का इलाज कर रही होंगी, इसका पता लगाने के लिए भी अब तक कांटेक्ट ट्रेसिंग नहीं की गयी है।

इसको लेकर जब मेदांता के सेंटर हेड से बात की गयी तो उन्होंने कहा कि हमारे यहां कोविड मरीजों के इलाज की व्यवस्था है। हमारे यहां की कितनी नर्सें और स्टाफ संक्रमित हैं इसकी जानकरी हम नहीं देंगे। आप विभाग से ले लीजिए।

बता दें कि मेदांता अस्पताल से एक डॉक्टर भी संक्रमित हुए थे जिन्हें सीसीएल गांधीनगर अस्पताल में एडमिट कराया गया था। इसके बाद एक रिसेप्शनिस्ट भी कोरोना पॉजिटिव मिली थीं।

वहीं 22 नर्सों से पहले भी चार नर्सों को पॉजिटिव पाया गया था, पर प्रबंधन उन्हें रिम्स भेजने की तैयारी कर रहा था। जिसके बाद नर्सिंग स्टाफ ने हड़ताल पर जाने की बात कही तब उन्हें मेदांता में ही भर्ती कराया गया।