मुसीबत बनी मानसून की पहली बारिश, एनएच-33 फोर लेन की हालत देखिए

रांची दर्पण (मोहसिन)। राजधानी के ओरमांझी हलके में मानसून आते ही तबाही मचाना शुरू कर दिया तेज बारिस और आंधी तूफान से कई बड़े बड़े पेड़ व घर गिर गए हैं। आंधी तूफान भरी से क्षेत्र के कई लोगों के कच्चा मकान उड़ गए।

इस के अलावा घण्टों लगातार वर्षा होने से राँची रामगढ़ मुख्य मार्ग एन एच 33 पर टोयटा शो रूम के पास बारिश का पानी  इतना जमाव हो गया कि डेढ़ घँटे से अधिक समय तक अवागमन बाधित रहा।

घण्टों तेज वर्षा से लोगों के घरों व दुकानों में भी पानी घुस गया। जिसे निकालते निकलते लोगों के पसीने छूट गए।

चकला गांव में नाली जाम के चलते जियाउल हक, परवेज अंसारी, महमद अंसारी, समीम अंसारी के घर में पानी घुस गया।

ग्रामीणों ने कहा कि नाली निर्माण के लिऐ चकला मुखिया वीणा देवी को पिछले 5 सालों से आवेदन देकर अपील किया जा रहा है, ताकि पानी निकासी हो सकें। मगर मुखिया द्वारा कोई पहल नही की जा रही है। मुखिया की लापरवाही से गांव के लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है।

तेज पानी व गरज लोका के चलते बिजली शाम में गुल रही। तेज गति से आये बारिश से जगह जगह पानी के जमाव से लोगों का आवागमन बाधित रहा।

पहली बारिश ने सरकार की पोल खोल कर रख दी। चारों ओर सरकारी बनायें सड़क पर पानी जमाव हो गया वही कई नाली घ्वस्त हो गये।

तेज गति से बारिश से इरबा कब्रिस्तान के पास पब्लिक रोड़ पर दो फिट पानी जम गया जो बाद में कब्रिस्तान में गन्दा पानी का बहाव होने लगा।जिससे ग्रामीण सड़क निर्माण पदाधिकारी से काफी नाराज दिखे।

एक नज़र