कोरोना पॉजिटिव रिटायर्ड फौजी की मौत के बाद रिम्स का न्यूरो सर्जरी वार्ड सील

रिपोर्ट आने से पहले ही परिजनों ने उसे रिम्स में भर्ती करा दिया। 2 जून को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आयी, मगर परिजनों ने रिपोर्ट को डॉक्‍टरों से छुपाये रखा। 4 जून को रिम्स में इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गयी

रांची दर्पण डेस्क। झारखंड में कोरोना वायरस के संक्रमण से एक व्यक्ति की मौत हो गयी। रिटायर्ड फौजी की मौत के साथ ही कोरोना वायरस के संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 6 हो गयी है।

न्यूरो सर्जरी वार्ड में इस व्यक्ति की मौत के बाद पूरे वार्ड को सील कर दिया गया है। यह शख्स रांची के कोकर इलाके का रहने वाला था।

बताते हैं कि राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (रिम्स) के न्यूरो सर्जरी विभाग को फिलहाल पूरी तरह से सील कर दिया गया है। यह मरीज पहले मेडिका में भर्ती था। बाद में उसे रिम्स में शिफ्ट कर दिया गया था।

कहते हैं कि रिम्स में भर्ती मरीज के परिजनों ने रिटायर्ड फौजी की रिपोर्ट छुपायी थी। इससे न्यूरो सर्जरी विभाग के एक यूनिट पर संक्रमण का खतरा उत्पन्न हो गया है। इसलिए इस वार्ड को पूरी तरह सील कर दिया गया है।

इसके पहले भगवान महावीर मेडिका अस्पताल और रांची जिला प्रशासन ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। इस मरीज के संपर्क को भी ट्रेस करने की किसी ने जहमत नहीं उठायी। यह रिटायर्ड फौजी कोकर के खोरहाटोली क्षेत्र का रहने वाला था।

कोकर के रहने वाले रिटायर्ड फौजी को न्‍यूरो की समस्‍या के कारण एक सप्‍ताह पहले मेडिका अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। 31 मई को जांच के लिए उसका सैंपल लिया गया था।

रिपोर्ट आने से पहले ही परिजनों ने उसे रिम्स में भर्ती करा दिया। 2 जून को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आयी, मगर परिजनों ने रिपोर्ट को डॉक्‍टरों से छुपाये रखा। 4 जून को रिम्स में इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गयी।

मरीज की मौत के बाद जैसे ही उसके कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी डॉक्‍टरों को हुई, रिम्‍स के न्‍यूरो सर्जरी डिपार्टमेंट में हड़कंप मच गया। डॉक्‍टर, नर्स समेत अन्‍य मरीजों व अस्‍पतालकर्मियों में दहशत फैल गयी। अब रिम्‍स के न्‍यूरो सर्जरी विभाग के आइसीयू को शिफ्ट करने की तैयारी हो रही है।

ज्ञात हो कि 3 जून को भी कोकर इलाके से एक व्यक्ति कोरोना से संक्रमित पाया गया था। 29 साल का यह शख्स भाभा नगर का रहने वाला है। अब तक झारखंड में 782 कोरोना से संक्रमित मरीज मिल चुके हैं, जिसमें 6 की मौत हो चुकी है।

एक नज़र